OFFICIAL WEBSITE OF MAA BAGLAMUKHI

Maa Baglamukhi Temple | Presented by Baglamukhi Prabandh Samiti | Designed BY Yash Gawli | Powered By Yashtech

LIVE DARSHAN
BAGLAMUKHI IS WITHIN US

Sidhpeeth-Sakti Ma Baglamukhi Mandir 03 Baglamukhi square Nalkheda 46545 District-Agar, Madhya Pradesh, India.

Baglamukhi Pujan

Baglamukhi Mantra

Maa Baglamukhi Mantra

  • Message From: Admin
  • April 27, 2020
0:00
WWW.MABAGLAMUKHI.ORG Is Authorized Website of Maa Baglamukhi Sidhpeeth Temple The committee Officially peresent this live darshan By Yashtech on WWW.MABAGLAMUKHI.ORG, no other Youtube Channel, Website, Social Media, individual or organization is authorized to collect any amount on behalf of our committee for offering or doing any Pooja, Donation etc. Note: Mobile, Camera & electronics equipments are not allowed in temple premises Maa Baglamukhi Mandir Nalkheda M.P
Video Thumb
Follow the official website and social media of the temple to have a live darshan of Maa Baglamukhi. WEBSITE = (www.mabaglamukhi.org) LIVE DARSHAN =(www.mabaglamukhi.org/live) SOCIAL MEDIA = (@baglmukhi) Note - General is informed that this is the official page of Maa Baglamukhi on Facebook, the temple committee will not be responsible for the information or behavior given on any other page, Maa Baglamukhi Temple Management Committee Nalkheda Madhya Pradesh

Some Important Life Lessons About Maa Baglamukhi Tantra Devi

Maa Baglamukhi Mandir A renowned and revered temple situated in Nalkheda town of District Agar Malwa in Madhya Pradesh on about a distance of 165 KM from Indore. Situated near the banks of river Lakhundar(Formerly known as River Lakshman), it is one of the three biggest and oldest Siddhapiths of Maa Baglamukhi in India apart from those in Datia and Kangra. The priests of the temple worship the three-faced Trishakti Bagalamukhi Devi. The self-proclaimed and awakened idol in the temple s said to have miraculous powers. Apart from this, The temple also houses and worships the idols of goddess Laxmi, Saraswati, Shri Krishna, Hanuman, and Bhairav.

The Glory of Maa Bgalamukhi Maa Baglamukhi, the eighth of all ten Mahavidhyas, This form of the mother is known as Tantra and Stambha Shakti. Devi shows the Ardhanarishwar Swaroop of Mahadev as the goddess has trinetra and a head decorated with Ardhachandra. Other than that, the Goddess is always associated with yellow color and is always decked in yellow-colored clothes and garlands made of yellow flowers. Hence,she is also referred to as devi Piambara. Maa Bagalamukhi is the goddess of Tantra, Sovarious tantric rituals take place in the temple. Moreover, the Temple in Nalkheda is built on a crematorium which makes it ideal for such practices. Various locals,and saints of Shaiva and Shakti sects from all over the country comes here to perform various Tantric rituals.

Learn more
Area Of Peace

Bagalamukhi is commonly known as Pitambari Maa in India, the goddess associated with yellow color or golden color. She rides on Bagula bird, which is associated with Concentration, a pearl of great wisdom..

Community Of Devoters

Baglamukhi or Bagalā (Sanskrit: बगलामुखी) is one of the mahavidyas (great wisdom/science), a group of ten Tantrik deities in Hinduism. Devi Bagalamukhi smashes the devotee's misconceptions and delusions.

Preaching Of Gita

a group of ten Tantrik deities in Hinduism. Devi Bagalamukhi smashes the devotee's misconceptions and delusions (or the devotee's enemies) with her cudgel The word Baglarpanam Baglamukhi.

Our History


1816

मंदिर परिसर में 16 खंभों वाला सभामंडप है, जो 252 साल पहले संवत 1816 में पंडित ईबुजी दक्षिणी कारीगर श्री तुलाराम ने बनवाया था। इसी सभा मंडप मे मां की और मुख करता एक कछुआ है, जो यह सिद्ध करता है कि पुराने समय में मां को बलि चढ़ाई जाती थी। मंदिर के ठीक सम्मुख लगभग 80 फीट ऊंची दीपमालिका है। कहा जाता है कि इसका निर्माण महाराजा विक्रमादित्य ने करवाया था। मंदिर प्रांगण मे ही एक दक्षिणमुखी हनुमान का मंदिर, एक उत्तरमुखी गोपाल मंदिर तथा पूर्वमुखी भैरवजी का मंदिर भी है। मुख्य द्वार सिंहमुखी भी अपने आप में अद्वितीय है। माता बगलामुखी की स्वयंभू मूर्ति है, धर्मराज युधिष्ठिर ने मंदिर बनवाया था कम ही लोग जानते हैं कि महाभारतकाल में भगवान श्रीकृष्ण ने कौरवों के खिलाफ युद्ध में जीत के लिए पांडवों को पूजा करने का आदेश दिया था। जिसके बाद पांडवों ने यहां तपस्या की, फलस्वरूप यहां देवी शक्ति का प्राकट्य हुआ। माता ने पांडवों को कौरवों पर जीत का आशीर्वाद दिया था। पांडवों में बड़े भाई धर्मराज युधिष्ठिर ने माता का आशीर्वाद पाने के बाद यहां मंदिर का निर्माण किया। मान्यता यह भी है कि माता बगलामुखी की मूर्ति स्वयंभू है। बताया जाता है कि ईस्वी सन् 1816 में मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया।

Learn More

1990

इस मंदिर में माता बगलामुखी के अतिरिक्त माता लक्ष्मी, सरस्वती, देवी चामुंडा, भगवान श्रीकृष्ण, श्री हनुमान, श्रीकाल भैरव एवं शिव परिवार (Mata Bagalamukhi, Mata Lakshmi, Saraswati, Devi Chamunda, Lord Shri Krishna, Shri Hanuman, Srikala Bhairav and Shiva family) भी विराजमान हैं। प्राचीन तंत्र ग्रंथों में दस महाविद्याओं का उल्लेख मिलता है। उनमें से एक हैं बगलामुखी।

Learn More

2000

माता बगलामुखी का पूजन (Mata Bagulamukhi ka poojan) यूं तो आम लोग भी करते हैं, लेकिन माता की विशेष साधना तांत्रिक विधि से होती है। जिसके लिए नियमों में रहकर पूजन किया जाना जरूरी है। माता को पीले रंग से प्रसन्न किया जाता है। बगलामुखी के साधक विशेषकर पीले रंग के वस्त्र पहनते हैं। माता का पूजन करने के लिए पीले फूल, पीली मिठाई और पीले रंग की खाद्य सामग्री का भोग लगाया जाता है। इसके अलावा चुनरी, मिठाई आदि पीले रंग की पूजन सामग्री भी भक्त चढ़ाते हैं। मां बगलामुखी शत्रु स्तंभन और शत्रु नाश की देवी मानी गई हैं। माता का पूजन हल्दी की गांठ की माला के माध्यम से भी किया जाता है। माता पीले रंग के वस्त्र धारण करती हैं, इस कारण उन्हें पीतांबरा (Pitambara Mata) भी कहा जाता है।

Learn More

2010

मां बगलामुखी में भगवान अर्धनारीश्वर महाशंभों के अलौलिक रूप का दर्शन मिलता है। भाल पर तीसरा नेत्र व मणिजडि़त मुकुट व चंद्र इस बात की पुष्टि करते हैं। बगलामुखी को महारुद्र (मृत्युंजय शिव) की मूल शक्ति के रूप में माना जाता है। वैदिक शब्द बग्ला है उसका विकृत आगमोक्ता शब्द बगला अत मां बगलामुखी कहा जाता है। भगवती बगला अष्टमी विद्या है। आराधना श्री काली, तारा तथा षोडशी का ही पूर्व क्रम है। सिद्ध-विद्या-त्रयी में पहला स्थान है। मां बगलामुखी को रौद्र रूपिणी, स्तभिंनी, भ्रामरी, क्षोभिनी, मोहनी, संहारनी, द्राविनी, जिम्भिनी, पीतांबरा, देवी त्रिनेभी, विष्णुवनिता, विष्णु-शंकर भमिनी, रुद्रमूर्ति, रौद्राणी, नक्षत्ररूपा, नागेश्वरी, सौभाग्य-दायनी, सुत्र संहार, कारिणी सिद्ध रूपिणी, महारावन-हारिणी परमेश्वरी, परतंत्र, विनाशनी, पीत-वासना, पीत-पुष्प-प्रिया, पीतहारा, पीत-स्वरूपिणी, ब्रह्मरूपा कहा जाता है।

Learn More

Upcoming Event

Festivals Of Navarathri Celebrations 2021

Navarathri or Nine Nights is a multifaceted festival celebrated across the State annually. Typically falling in either September or October, these 9 days are reserved for the special worship of the nine forms of Goddess Shakti / Devi..

Latest Update

There Are Many Latest News And Update About Maa Baglamikhi Temple From The Management Committee

Learn more
Watch more
Watch more

Follow